नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्री जयवर्द्धन सिंह ने कहा कि   बीआरटीएस भोपाल का सीआरआरआई के सीनियर प्रिंसिपल साइंटिस्ट ट्रैफिक इंजीनियरिंग और सेफ्टी डिवीजन डॉ. एस. वेलमुरूगन और उनकी टीम चार माह में परीक्षण कर विस्तृत रिपोर्ट देगी। उन्होंने कहा कि परीक्षण रिपोर्ट के आधार पर कार्यवाही की जायेगी। श्री सिंह मंत्रालय में विशेषज्ञों और अधिकारियों के साथ बैठक में बीआरटीएस के संबंध में चर्चा कर रहे थे।

श्री सिंह ने कहा कि बीआरटीएस में गाड़ी चलाने वालों के विरुद्ध कड़ी कार्यवाही की जाये। उन्होंने कहा कि बीआरटीएस जंक्शन में सुविधाएँ उपलब्ध कराने सहित ब्लैक स्पॉट की भी पहचान की जायेगी। उन्होंने कहा कि बीआरटीएस में बस की फ्रीक्वेंसी भी बढ़ाई जाये।

प्रमुख सचिव श्री संजय दुबे ने कहा कि बीआरटीएस के परीक्षण के दौरान प्रस्तावित मेट्रो का भी ध्यान रखें। सीनियर साइंटिस्ट डॉ. वेलमुरुगन ने जानकारी दी कि आज उन्होंने लालघाटी से सीहोर नाका, बोर्ड ऑफिस से गणेश मंदिर और मिसरोद से आर.आर.एल. तिराहा का भ्रमण किया है। उन्होंने बताया कि वे सुबह 7 से रात 9 बजे तक ट्रैफिक के कंजेशन, वाहनों की संख्या और उनकी स्पीड का विस्तृत अध्ययन कर औचित्यपूर्ण रिपोर्ट देंगे। उल्लेखनीय है कि दिल्ली में डॉ. वेलमुरुगन की रिपोर्ट के आधार पर ही बीआरटीएस तोड़ने की कार्यवाही की गई थी।

बैठक में आयुक्त नगरीय विकास श्री पी. नरहरि, संचालक ग्रामीण एवं नगर निवेश श्री राहुल जैन, उप सचिव श्री मनीष सिंह और कमिश्नर नगर निगम भोपाल श्री विजय दत्ता उपस्थित थे।