हैदराबाद (पाकिस्तान): पाकिस्तान में हिंदू लड़कियों पर अत्याचार के मामले थमने का नाम नहीं ले रहे हैं. अब पाकिस्तान के सिंध प्रांत में एक हिंदू लड़की की हत्या की खबर आई है. ऐसा माना जा रहा है कि यह हत्या जबरन धर्म परिवर्तन की वजह से हुई है. मृतक छात्रा का नाम नमृता चंदानी था और वह घोटकी के ही मीरपुर मथेलो की रहने वाली थी.  पुलिस का कहना है कि शुरुआत में ही यह कहना मुश्किल है कि यह आत्महत्या है या कत्ल लेकिन नमृता के भाई डॉ विशाल सुंदर ने दावा किया है यह आत्महत्या नहीं मर्डर है.  

नमृता लरकाना के बीबी आसिफा डेंटल कॉलेज में फाइलन ईयर की छात्रा थीं. नमृता का शव हॉस्टल के कमरे में चारपाई पर पड़ा मिला और उसके गले को रस्सी का फंदा लगा मिला. सुबह जब नमृता की दोस्तों ने उसके कमरे का दरवाजा खटखटाया तो अंदर से काफी देर तक जवाब ना मिलने पर उन्होंने पुलिस को सूचित किया. पुलिस के आने पर चौकीदार ने दरवाजा तोड़ा और अंदर नमृता का शव मिला. पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है.

लरकाना डीआईजी इरफान अली बलूच ने एसएसपी मसूद अहमद बंगश को घटना की जांच के आदेश दिए है. वहीं डेंटल कॉलेज के कुलपति, डॉ अनिला अताउर रहमान ने कहा,'पहली नजर में यह घटना आत्महत्या लग रही है, लेकिन पुलिस और मेडिको-लीगल पोस्टमॉर्टम के बाद मौत के वास्तविक कारण का पता लगाने में सक्षम होगी.

बता दें कि कुछ दिन पहले ही सिंध का घोटकी इलाका हिंदुओं पर होने वाले अत्याचार के मामले में सुर्खियों में था. 15 सितंबर घोटकी में ही एक हिंदू मंदिर और स्कूल में तोड़फोड़ हुई थी.