झारखंड के देवघर में निर्माणाधीन एम्स के पहले शैक्षणिक सत्र की शुरुआत हो गई है. पहले सत्र में 50 सीटों के लिए नामांकन किया गया है. फिलहाल शैक्षणिक सत्र का संचालन देवघर के पंचायत प्रशिक्षण संस्थान में किया जा रहा है.
    1103 करोड़ की लागत से बन रहा एम्सपहले सत्र में 50 सीटों पर हुए एडमिशन्स

झारखंड के देवघर में निर्माणाधीन एम्स के पहले शैक्षणिक सत्र की शुरुआत हो गई है. पहले सत्र में 50 सीटों के लिए नामांकन किया गया है. फिलहाल शैक्षणिक सत्र का संचालन देवघर के पंचायत प्रशिक्षण संस्थान में किया जा रहा है. देवघर में एम्स के शैक्षणिक सत्र की शुरुआत को इस क्षेत्र के लिए बड़ी उपलब्धि बताया जा रहा है. देवघर में लगभग 1103 करोड़ की लागत से एम्स का निर्माणकार्य प्रगति पर है. बावजूद इसके शैक्षणिक सत्र संचालन की अनुमति एक बड़ी उपलब्धि मानी जा रही है.

फिलहाल देवघर के पंचायत प्रशिक्षण संस्थान में क्लासेज और होस्टल का प्रबंध किया गया है. पटना एम्स की देख-रेख में शुरू हुए पहले सत्र में 50 सीटों पर दाखिले हुए हैं. पटना एम्स के निदेशक ने पहले सत्र की शुरुआत की. उदघाटन के बाद डॉ. प्रभात कुमार ने कहा कि इस पूरे क्षेत्र में एम्स का खुलना चिकित्सा और स्वास्थ्य के क्षेत्र में नए आयाम जोड़ेगा.

वहीं DDC देवघर शैलेंद्र कुमार ने भी एम्स से होनेवाले फायदे को बताया और कहा कि सीमावर्ती बंगाल से लेकर आसपास के राज्यों के लिए भी एम्स वरदान साबित होगा. बता दें पहले सत्र के लिए फैकल्टी भी पटना एम्स द्वारा उपलब्ध कराई जाएगी.

जम्मू-कश्मीर, केरल, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ समेत अन्य राज्यों से स्टूडेंट्स ने पहले सत्र में दाखिला लिया है. प्रधानमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना के तहत स्वीकृत देवघर एम्स में 750 बेड का अस्पताल, ट्रामा सेंटर के साथ नर्सिंग कॉलेज खोले जाने की योजना है. यहां हर साल 100 मेडिकल और 60 नर्सिंग छात्र-छात्राओं का दाखिला लिया जाएगा. साथ ही 15 आधुनिकतम ऑपरेशन थियेटर समेत 20 स्पेशैलिटी और सुपर स्पेशैलिटी विभाग और पारंपरिक चिकित्सा को बढ़ावा देने के उद्देश्य से 30 बेड की क्षमता का आयुष विभाग भी खोले जाने की योजना है.
उदघाटन शिलापट पर नाम न होने से नाराज हुए मंत्री जी

गढ़वा इलाके में जिला प्रशासन द्वारा नगर परिषद क्षेत्र में दो अटल क्लिनिक बनाए गए हैं. दोनों का उद्घायन होना था लेकिन हुआ सिर्फ एक का ही. वार्ड आठ में धूम-धाम से स्वास्थ मंत्री सत्येंद्रनाथ तिवारी और गढ़वा विधायक डीसी हर्ष मंगला ने अटल क्लिनिक का उद्घाटन किया. लेकिन दूसरे अटल क्लिनिक का उद्घाटन इतनी धूम-धाम से नहीं हुआ. दरअसल मंत्री महोदय का नाम उद्घाटन प्लेट पर नहीं था. फिर क्या था! मंत्री जी बिना उद्घाटन किए गाड़ी में बैठ कर चले गए.